माइग्रेन में कारगर है अरोमाथेरेपी Aromatherapy Is Effective For Migraines

Aromatherapy Is Effective For Migraines – आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में आए दिन सिरदर्द का होना एक आम बात है | माइग्रेन भी सिरदर्द का ही एक प्रकार है, जिसमें सिर के आधे हिस्से में दर्द रहता है | डॉक्टरों के मुताबिक अरोमाथेरेपी से माइग्रेन को काफी हद तक काबू में किया जा सकता है |

हालांकि माइग्रेन होने का कोई निश्चित कारण नहीं है | सामान्य रूप से सिरदर्द का कारण मस्तिष्क में रक्तवाहिनियों का फैलाव है |

1. सामान्यतया माइग्रेन 20 फीसदी पुरुषों व 6 फीसदी महिलाओं में पाया जाता है |

2. सामान्य रूप से 40 साल के आसपास इसका असर गहरा होता है | तनाव इसका प्रमुख कारण है |

3. हार्मोन परिवर्तन, मासिक चक्र या रजोनिवृत्ति के पूर्व भी माइग्रेन के मामले सामने आते हैं |

माइग्रेन से पीड़ितों में ये सामान्य लक्षण (Migraine Symptoms) देखे जाते हैं-

1. व्यवहार में बदलाव (मूड चेंज)

2. शरीर में उर्जा का स्तर काफी कम हो जाता है |

3. भूख में भी परिवर्तन होता है |

क्या है अरोमाथेरेपी What Is Aromatherapy

कुछ खास तेलों को माइग्रेन दूर करने के लिए फायदेमंद बताया गया है, जिनमें तुलसी, कर्पूरपुष्प, लैवेंडर, काली मिर्च व यूकेलिप्टस मुख्य हैं | इनके तेलों को भाप के रूप में लिया जा सकता है | इन्हें अकेले या एक-दूसरे के साथ मिलाकर भी प्रयोग किया जा सकता है |

एक कटोरे में पानी लेकर तेल की कुछ बूंदे उसमें डाल दें | तेल मिश्रित पानी से गले, सिर, कंधे की मालिश करें | मालिश करते समय ज्यादा रगड़ें नहीं व उंगलियों का प्रयोग करें | पानी में तेल डालकर उसकी भाप भी ली जा सकती है |

इसे भी पढ़ें -> 6 उपयोगी फेंगशुई टिप्स आपके लिए 6 Feng Shui Tips For Home In Hindi

कौन सा तेल, किस में उपयोगी

1. तनाव से सिर दर्द होने पर – लेवेंडर का तेल |

2. पेट खराब या गर्मी लगने पर – तुलसी का तेल |

3. सप्ताहांत में काम की थकान दूर करने के लिए – यूकेलिप्टस का तेल |

4. मासिक धर्म के पूर्व/रजोनिवृत्ति के समय – कर्पूरपुष्प का तेल |

5. नियमित ध्यान या योग करें |

6. हल्का भोजन व कम मसाले का प्रयोग करें |

7. कॉफी व शराब का सेवन कम करें |

8. हर्बल चाय का सेवन फायदेमंद रहेगा |