भगंदर का घरेलु उपचार Bhagandar Ka Gharelu Upchar Hindi Me

भगंदर का घरेलु उपचार Bhagandar Ka Gharelu Upchar Hindi Me

यहाँ पर बताएगें कि bhagandar kaise hota hai. मलद्वार के ऊपर की ओर गहरे जख्म के रूप में होने वाला रोग भगंदर बहुत कष्टदायक होता है. भगंदर की चिकित्सा में विलंब करने से जख्म ‘नासूर’ के रूप में परिवर्तन हो जाता है. जख्म इतना गहरा हो जाता है कि उससे मल भी निष्कासित होने लगता है. भगंदर के जख्म से रक्त मिश्रित पुय स्त्राव होता है.

भगन्दर को जडमूल से खत्म करने के लिए घरेलु उपचार Bhagandar Ko Khatm Karne Ke Liye Gharelu Upachaar –

यहा पर हम जानेंगे कि Bhagandar Ka Ilaj Kya Hai – 

Gharelu Upchaar #1. भगंदर से हर समय पुयस्त्राव होता है, इसलिए दिन में दो बार डिटॉल मिले जल से भगंदर के व्रण (जख्म) को साफ करना चाहिए. इसी के साथ – साथ  आप bhagandar ke liye yoga भी कर सकते है .

Gharelu Upchaar #2. नीम के पत्तों को जल में उबालकर, उस जल को छानकर भगंदर को धोने से पुय के जीवाणु नष्ट होते हैं.

Gharelu Upchaar #3. सोंठ, गिलोय और चमेली के पत्तों को थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर तक्र के साथ पीसकर गाढ़ा सा लेप बनाएं. इस लेप को सुबह और रात्रि में सोते समय भगंदर पर लगाने से बहुत लाभ होता है. लेप के लिए सभी औषधियां बराबर मात्रा में लेनी चाहिए.

Gharelu Upchaar #4. काली मिर्च के 10 दानों को 5 ग्राम कत्थे (खदिर) के साथ पीसकर भगंदर पर लेप करने से जल्दी लाभ होता है.

Gharelu Upchaar #5. आक का दूध और दारू हल्दी को खूब बारीक पीसकर बत्ती बनाकर भगंदर के व्रणों पर लगाने से शीघ्र लाभ होता है.

Gharelu Upchaar #6. एरंड की जड़, मुलहठी और तिल के कच्चे दूध के साथ पीसकर, भगंदर पर लेप करने से अतिशीघ्र लाभ होता है. भगंदर की पीड़ा भी नष्ट होती है.

इसे भी पढ़े – लकवा के लक्षण व उपचार Paralysis Treatment in Hindi Language

Gharelu Upchaar #7. दंती की जड़, आंवलों का रस और हल्दी को मिलाकर जल के छींटे मारकर खूब बारीक पीसकर भगंदर पर लेप करने से भीषण भगंदर भी जल्दी नष्ट होता है.

Gharelu Upchaar #8. सांप समय-समय पर अपनी केंचुली छोड़ देते हैं. इस केंचुली को मिट्टी के पात्र में बंद करके आग पर गर्म करके भस्म बना लें. फिर इस भस्म में तंबाकू का गुल मिलाकर, सरसों के तेल के साथ भगंदर पर लेप करने से जलन व पीड़ा नष्ट होती है.

Gharelu Upchaar #9. प्रतिदिन दो तीन बार अंकोल का तेल लगाने से भगंदर जल्दी नष्ट होता है. पहले अंकोल का 100 ग्राम तेल लेकर उसे आग पर रखकर उसमें 25 ग्राम मोम और नीला थोथा 3 ग्राम मिलाकर खूब गर्म करें. जब तीनों चीजें एक दूसरे से मिल जाए तो उसको नाड़ी व्रण अर्थात भगंदर पर लेप करें.

Gharelu Upchaar #10. छोटी अरणी के ताजे व कोमल पत्तों को पीसकर, जल से धुले हुए मक्खन में मिलाकर भगंदर पर लेप करने से बहुत लाभ होता है. और bhagandar ka operation भी नही कराना पड़ेगा

Gharelu Upchaar #11. छोटी अरणी की जड़ को जल में उबालकर क्वाथ बनाएं. सुबह शाम 20-20 ग्राम क्वाथ मधु मिलाकर पीने से भगंदर की विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upchaar #12. अनार के छिलकों में जीवाणुनाशक गुण होते हैं. अनार की छाल को जल में उबालकर क्वाथ बनाएं. इस क्वाथ को छानकर दिन में दो बार भगंदर को धोने से पुय के जीवाणु नष्ट होते हैं.

Gharelu Upchaar #13. गिलोय, सोंठ, चमेली के ताजे पत्ते और सेंधा नमक, सभी चीजें बराबर मात्रा में मिलाकर तक्र (मट्ठे) के साथ खूब बारीक पीसकर लेप बनाएं. इस लेप को भगंदर पर लगाने से व्रण नष्ट होते हैं.

Gharelu Upchaar #14.हाथी के दांत को जल के साथ पीसकर भगंदर पर सुबह शाम लेप किया जाए तो भगंदर रोग नष्ट होता है.

Gharelu Upchaar #15. खैरसार और त्रिफला का क्वाथ बनाकर उस क्वाथ को छानकर उसमें 2 ग्राम वायविडंग का चूर्ण और घी मिलाकर कुछ सप्ताह सेवन करने से भगंदर विकृति नष्ट होती है.

Gharelu Upchaar #16. अतिबला के ताजे व कोमल पत्तों को पीसकर, उसमें थोड़ा-सा गुड़ मिलाकर भगंदर पर लेप करके पट्टी  बांधने से भगंदर बहुत जल्दी नष्ट होता है.

Searches related to Bhagandar Ka Gharelu Upchar

  • भगंदर लक्षण
  • भगन्दर का ऑपरेशन Operation of Bhagandar
  • भगन्दर होम्योपैथी Bhagander Homeopathy
  • भगन्दर का होम्योपैथिक इलाज  Homoeopathic treatment of Bhagandar
  • भगन्दर के उपचार Treatment of Bhaginder