कायफल के फायदे हिंदी में Kayfal Ke Fayde In Hindi

कायफल के फायदे हिंदी में Kayfal Ke Fayde In Hindi

उत्तर प्रदेश, पंजाब, आसाम और हिमाचल के उष्ण प्रदेशों में कायफल का वृक्ष अधिकता से पाया जाता है | यह एक मध्यम आकर का 10 से 15 फुट ऊँचा वृक्ष होता है | इसकी छाल मटमैली भूरे रंग की भारी, खुरदुरी और एक चौथाई  इंच मोटी होती है | पत्ते नोकीले भाले के आकर के, आयताकार, 3 से 6 इंच लंबे और डेढ़ से दो इंच चौड़े होते है |

पुष्प छोटे, लाल, सुगंधित और मंजरियो में लगते है | फल लम्बाई में एक इंच से भी कम, अंडाकार, पकने पर रक्त की आभा लिए या पीलापन लिए बादामी रंग के, मधुर, अम्ल के स्वाद युक्त होते हैं | फलों के ऊपर सफेद मोम सा आवरण चढ़ा रहता हैं, जो भूरे और काले धब्बो से युक्त होते हैं | फलो मे झुरीदार बिज होते हैं |

कायफल फालसे की तरह एक स्वादिष्ट फल होता है, जिसे पहाड़ी लोग बड़े चाव से खाते हैं | उतरी भारत में कायफल एक प्रसिध्द घरेलु औषधि हैं |

यहा पर ये जाने

  1. सर्दी का प्रभाव  दूर करे कायफल Sardi Ka Prabhav Dur Kre Kayaphal 
  2. अंग ठंडा होने पर कायफल का सेवन Body Cool Hoen pr Kayaphal 
  3. व्रण, घाव  को ठीक करे कायफल Vard Ghaw Ko Thik Kre Kayaphal
  4. दमा, श्वास में कायफल का सेवन Asthma, Breathing Me Kayaphal Ka Sevan
  5. दंत शूल  के  लिए Dant Shool Ke Liye Kayaphal
  6. जुकाम  के लिए कायफल Jukham Ke Liye Kayaphal
  7. बेहोशी में कायफल से इलाज Behosi Me Kayaphal Se Ilaaj
  8. गर्भ स्थापना हेतु  कायफल Garbh Sthapit Purpose Kayaphal
  9. खांसी में इस्तेमाल करे कायफल Cough in Use Kayaphal
  10. अतिसार  लगने पर कायफल Atisaar Lagne Pr Kayaphal
  11. मोच की सुजन और दर्द के लिए उपयोगी कायफल  Dard Ke Liye Upyogi Kayaphal
  12. बवासीर  में लाभ देगा कायफल Bavaseer Me Labh Dega Kayaphal
  13. नपुंसकता  को दूर करे कायफल Impotence Ko Dur Kre Kayaphal

कायफल के विभिन्न भाषाओं में नाम Kayphal Ke Vibheen Bhasao Me Name

  • संस्कृत Kayaphal In Sanskrit- कट्फल, सोमवल्क |
  • हिंदी Kayaphal In Hindi – कायफल |
  • मराठी, गुजरती Kayaphal In Gujarati, Marathi – कायफल |
  • बंगाली Kayaphal In Bangali – कायछाल |
  • अंग्रेजी Kayaphal In English – बाक्स मिर्टल ( Box Myrtle ) |
  • लैटिन Kayaphal In Latin- माइरिका एसक्युलेंटा (Myrica Esculenta ) |

कायफल के आयुर्वेदिक गुण Kayphal Ke Ayurvedic Gun

आयुर्वेद के मतानुसार कायफल रस में कटु, तिक्त, कषाय, गुण में लघु, तीक्ष्ण, प्रकृति में उष्ण, विपाक में कटु होता है | यह वात, कफ नाशक होने के कारण वातजन्य वेदनाओं के शमन में उपयोगी हैं | इसका उपयोग नास लेने के लिए सिर दर्द, सर्दी-जुकाम, मूर्छा , मिर्गी आदि के लिए किया जाता है | यह कफ निस्सारक एवं श्वासहर होने से श्वास रोग और खांसी में लाभप्रद हैं | मूत्रसंग्रहणीय होने से प्रमेह का रोग दूर करता है |शुक्र शोधक होने के कारण शुक्रागत दोषों को दूर करके नपुंसकता मिटाता है |

यूनानी मतानुसार कायफल दुसरे दर्जे का गर्म और खुश्क होता है | इसके फूलों से निकाले गए तेल की भी यही प्रकृति होती है, जो लकवे की बीमारी में मालिश करने से लाभप्रद होता है | नपुंसकता में इस तेल को शिश्न पर मलना गुणकारी होता है | सिर दर्द और नजले की तकलीफे में इस तेल को नाक में टपकने से आराम मिलता हैं |

वैज्ञानिक मतानुसार कायफल से रासायनिक तत्वों का विश्लेषण करने पर ज्ञात होता है की कायफल की छाल में 32 प्रतिसत टैनिन, मिरिसाइट्रिन नामक ग्लाइकोसाइड पाया जाता है | कायफल उतेजक, संकोचक, क्रिमिनासक, छाती में जमे हुए कफ को निकालने वाला, ह्रदय रोग में गुणकारी, अतिसार दूर करने वाला होता है |

[इसे भी जाने – Height Kaise Badaye Tips In Hindi ]

कायफल के हानिकारक प्रभाव Kayphal Ke Harmful Effects

अधिक मात्र में प्रयोग करने से यकृत, प्लीहा को हानि पहुंचकर उलटी की शिकायत हो सकती है|

कायफल के  विभिन्न रोगों में प्रयोग और आयुर्वेदिक उपचार  Kayphal Ke Rogo Me Prayog Aur Ayurvedic Upchar

1. सर्दी का प्रभाव  दूर करे कायफल Sardi Ka Prabhav Dur Kre Kayphal :

कायफल का महीन चूर्ण छाती, पेट और हाथ-पैरों पर मलने से शारीर में गर्मी का संचार होकर सर्दी का प्रभाव दूर होता है |

2. अंग ठंडा होने पर कायफल का सेवन Body Cool Hoen pr Kayphal  :

किसी भी रोग में हाथ पैर ठंडे हो जाने पर कायफल और सोंठ का बराबर की मात्रा में मिलाया महीन चूर्ण मलने से गर्मी का संचार होने लगेगा |

3. व्रण, घाव  को ठीक करे कायफल Vard Ghaw Ko Thik Kre Kayphal :

कायफल का पिसा हुआ चूर्ण लगाने से शीघ्र लाभ मिलता है |

4. दमा, श्वास में कायफल का सेवन Asthma, Breathing Me Kayphal Ka Sevan :

कायफल का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम सेवन करें |

5. दंत शूल  के  लिए Dant Shool Ke Liye Kayphal :

पिसा हुआ कायफल का चूर्ण सिरके में मिलाकर पीड़ित दांतों पर लगाएं और मसूढ़ों पर मालिश करने से उसका दर्द भी दूर होता है |

6. जुकाम  के लिए कायफल Jukham Ke Liye Kayphal :

कायफल की बारीक़ चूर्ण रुमाल में लपेटकर बार-बार सूंघे | इससे छींके आएंगी और सिर हलका हो जायेगा |

7. बेहोशी में कायफल से इलाज Behosi Me Kayphal Se Ilaaj :

रोगी की नाक के पास कायफल के चूर्ण को उंगली पर रखकर फूंकने से जैसे ही छींको का दौर चलेगा, उसे होश आ जायेगा |

8. गर्भ स्थापना हेतु  कायफल Garbh Sthapit Purpose Kayphal :

कायफल का चूर्ण बराबर की मात्रा में मिसरी मिलकर एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम दूध के साथ, मासिक धर्म प्रारंभ होने के प्रथम दिन से 15 दिनों तक नियमित पिलाने से गर्भ धारण होता है |

9. खांसी में इस्तेमाल करे कायफल Cough in Use Kayphal :

पान में 2 ग्राम कायफल का चूर्ण रखकर सुबह-शाम सेवन करें |

10. अतिसार  लगने पर कायफल Atisaar Lagne Pr Kayphal  : 

बिल्वफल और कायफल का चूर्ण समान मात्रा में मिलकर एक-एक चम्मच की मात्रा में 3 बार लें |

11. मोच की सुजन और दर्द के लिए उपयोगी कायफल  Dard Ke Liye Upyogi Kayphal :

कायफल और इसकी छाल को पानी में पीसकर लेप बनाएं और गर्म करके लगाने से सुजन और दर्द में आराम मिलेगा |

12. बवासीर  में लाभ देगा कायफल Bavaseer Me Labh Dega Kayphal :

 बवासीर के मस्सों पर छाल का चुर्ण घी में मिलकर लगाएं |

13. नपुंसकता  को दूर करे कायफल Impotence Ko Dur Kre Kayphal :

छाल का चूर्ण दूध में पीसकर लेप को शिश्न पर सुबह-शाम लगाएं और सोते समय कायफल के तेल की मालिश नियमित रूप से करें |