Lal Mooli (Red Radish) Ki Kheti Kaise Kare – लाल मूली की खेती

लाल मूली की उन्नत खेती कैसे करें Lal Mooli (Red Radish) Ki Kheti Kaise Kare

लाल मूली भी एक फाइव-स्टार होटल व उच्च श्रेणी के सब्जी बाजार की दुकानों पर अधिक बेची जाती है तथा बाजार में अधिक मांग रहती है | इन लाल मूलियों को अधिकतर सलाद, पराठे एवं कच्ची सब्जी के रूप में अधिक खाया जाता है । इसका छिलका लाल रंग का जो तीखा न होकर कुरकुरा, मुलायम तथा स्वादिष्ट होता हैं ।

इस मूली में दो प्रकार की किस्में होती हैं जो गोलाकार तथा लम्बी आकार की होती हैं । इनको सलाद की सजावट हेतु भी प्रयोग में लाया जाता है । इस सब्जी को अधिकतर कच्चा ही खाया जाता है । इसमें तीखापन नहीं होता है । यह स्वादिष्ट अधिक होती है तथा इसमें पोषक-तत्वों की भी भरपूर मात्रा होती है । भोजन के साथ सेवन से शीघ्र पाचन व खून का शुद्धीकरण करती है । इसका छिलका सहित प्रयोग करना चाहिए ।

Lal Mooli (Red Radish) Ki Kheti Kaise Kare

लाल मूली की उन्नत खेती के लिए आवश्यक भूमि व जलवायु (Soil and Climate for Lal Mooli Kheti)

अन्य मूली (सफेद) की भांति लाल मूली के लिये भी हल्की बलुई दोमट की आवश्यकता होती है । इस मूली को हमेशा मेड़ों पर ही लगाना चाहिए तथा मिट्‌टी में भरपूर जीवांश-पदार्थों की मात्रा का होना नितान्त आवश्यक है । भूमि का पी.एच. मान 6.5-7.5 के बीच का उचित रहता है ।

लाल मूली के लिये भी ठण्डी जलवायु की आवश्यकता होती है । क्योंकि यह भी शरद ऋतु की फसल है जिसको ठन्ड की अधिक जरूरत रहती है । अर्थात् 30-32 डी०सेग्रेड तापमान अधिक उचित रहता है । लेकिन 20- 25 डी०सेग्रेड के तापमान पर अच्छी वृद्धि करती है ।

लाल मूली की उन्नत खेती के लिए खेत की तैयारी (Lal Mooli Ki Kheti Ke Liye Khet Ki Taiyari)

इस फसल के लिये 4-5 जुताइयों की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि यह जड़ वाली फसल है जिसको भुरभुरी मिट्‌टी की आवश्यकता पड़ती है । इस प्रकार से 1-2 जुताई मिट्‌टी पलटने वाले हल से तथा देशी हल या ट्रैक्टर ट्रिलर द्वारा करनी चाहिए । इस प्रकार से खेत का ढेले रहित व सूखी घास रहित होना जरूरी है । ढेले ना बनने हेतु प्रत्येक जुताई के बाद पाटा चलाना आवश्यक है । मिट्‌टी बारीक रहे जिससे जड़ें अधिक वृद्धि करें ।

इसे भी पढ़ें -> गाजर की खेती कैसे करें

लाल मूली की उन्नत किस्में (Improved Varieties of Red Radish)

लाल मूली- जोकि लम्बी एवं गोलाकार होती है । आमतौर पर इन्हें ही उगाया जाता है ये स्थानीय किस्मों को ही बोया जाता है जिससे अधिक उपज मिलती है ।

1. रैपिड रेड वाइट ट्रिटड- लम्बी जड़ वाली 2. स्कारलेट ग्लोब- गोलाकार जड़ वाली ही प्रसिद्ध किस्में हैं ।

खाद एवं उर्वरकों की मात्रा (Quantity of Manure and Fertilizers)

सड़ी गोबर की खाद 8-10 टन प्रति हैक्टर तथा नत्रजन 80 किलो, फास्फोरस 60 किलो तथा पोटाश 60 किलो प्रति हैक्टर देना चाहिए । फास्फोरस व पोटाश एवं आधी नत्रजन बुवाई से पहले दें तथा शेष नत्रजन की बची आधी मात्रा को 15-12 दिन बाद टोप-ड्रेसिंग के रूप में खड़ी फसल में दें ।

बीज की मात्रा (Seeds Rate)

बीज की मात्रा प्रति हैक्टर 8-10 किलो पर्याप्त होती है लेकिन बुवाई छिटककर करनी हो तो 12-15 किलो प्रति हैक्टर की आवश्यकता पड़ती है ।

बुवाई का समय एवं विधि (Sowing Time and Method)

बुवाई का उचित समय मध्य सितम्बर से अक्टूबर का माह होता है क्योंकि अगेती फसल की अधिक मांग होती है ।

बुवाई की विधि सर्वोत्तम पंक्तियों में मेड् बनाकर बोना चाहिए । पेड़ों को 6-8 इंच ऊंची तथा 10-12 इंच चौड़ी बनाकर ऊपरी सतह पर 10-12 सेमी. की दूरी पर बीज को 2-3 मिमी. की गहराई पर बोना चाहिए जिससे शत-प्रतिशत बीज अंकुरित हो सकें । गहरा बीज कम अंकुरित हो पाता है । मेड से मेड की दूरी 45 सेमी. तथा पौधे से पौधे की दूरी 8-12 सेमी. रखते हैं ।

सिंचाई (Irrigation)

मूली को सर्वप्रथम पलेवा करके जुताई करें तब बीज को बायें | जब बीज अंकुरित होकर 10-12 दिन की फसल हो जाये तो प्रथम सिंचाई करनी चाहिए तथा अन्य सिंचाई 10-12 दिन के अन्तराल से करनी चाहिए । इस प्रकार से  8-10 सिंचाई पर्याप्त होती हैं । पानी की मात्रा कम देते हैं जिससे मेड़ें डूब न पायें ।

निकाई-गुड़ाई (Hoeing)

इस फसल में अधिक निकाई-गुड़ाई की आवश्यकता नहीं पड़ती । क्योंकि 40 दिन में फसल तैयार हो जाती है तथा कोई जंगली घास या पौधे उग भी आते हैं तो हाथ से उखाड़ा जा सकता है । इस प्रकार से आवश्यकता पड़ने पर जंगली घास निकालने के लिये एक-दो निकाई-गुड़ाई की आवश्यकता पड़ती है ।

मिट्‌टी चढ़ाना (Earthing)

मूली बोने हेतु गूल बनाना आवश्यक है क्योंकि यह जड़ वाली फसल है, इसकी पैदावार गूलों पर बोने से अधिक मिलती है । मिट्‌टी बाद में कम चढ़ाई जाती है । मोटे आकार की धूल पर अधिक बीज लगता है ।

मूली को उखाड़ना (Harvesting)

तैयार मूली को खेत में से निकालते रहना चाहिए । इस प्रकार से मूली की जड़ों को साफ करके पत्तियों सहित बाजार या सब्जी की दुकानों पर बिक्री के लिये भेजते हैं । ताकि जड़ व पत्तियां मुरझा ना पायें, ताजी बनी रहें ।

इसे भी पढ़ें -> मूली की खेती कैसे करें

उपज (Yield)

उपज अच्छी देखभाल होने पर 20-25 क्विंटल प्रति हैक्टर तक पर्याप्त होती है । जड़ों को अधिक दिन की ना करें अन्यथा बीज से खराब हो जाती है । समय पर खोदना चाहिए ।

बीमारियां एवं कीट नियन्त्रण (Diseases and Insect Control)

बीमारी अधिकतर पत्तियों पर धब्बे लगाने वाली लगती है । जिसका-नियन्त्रण फफूंदीनाशक बेवस्टीन से बीज उपचारित करके बोयें तथा 0.2% के घोल का स्प्रे करें ।

कीट अधिक एफिडस, सुण्डी अधिक लगती है । रोकथाम के लिये रोगोर, मेलाथियोन का 1% का घोल बनाकर स्प्रे करने से नियन्त्रण हो जाता है ।

जाने – मशरूम की खेती करके लाखों कैसे कमायें – Mushroom Ki Kheti Kaise Kare

Tags: radish growing tips, how to plant radish seeds, mooli ki kheti, how do you grow radishes, how long does it take to grow radishes, lal mooli ki kheti, radish growing time.