वाटर पोलो खेल के नियम हिंदी में Water Polo Game Rules In Hindi

वाटर पोलो खेल के नियम हिंदी में Water Polo Game Rules and Information In Hindi

यह पानी के अंदर खेले जाने वाला एक खेल है और दो टीमों के मध्य खेला जाता है| इसकी प्रत्येक टीम में 11 खिलाड़ी होते है, लेकिन 7 खिलाड़ी ही क्रीडा क्षेत्र मे रहते है, शेष स्थानापन्न होते है| इस खेल में गेंद हाथ से धकेली जाती है| केवल गोलकीपर ही गेंद को थपेड़ा मार सकता है| अन्य खिलाड़ी गेंद को गोल में फेंकने की कोशिश कर सकते है|

वाटर पोलो खेल का क्षेत्र Area Of ​​Water Polo Sports

यह एक छोटा-सा पुल होता है, जिसकी लंबाई 20 मीटर, चौड़ाई 8 मीटर व गहराई 1.80 मीटर होती है|

वाटर पोलो खेल की गेंद

क्योकि water polo खेल जल के अंदर खेला जाता है, अतः इसकी गेंद वाटर प्रूफ होती है | और परिधि 68-71 से.मी. के बीच तथा व्यास 60-67 से.मी. के बीच होता है|

वाटर पोलो खेल की पोशाक Dress of water polo game

इस खेल में खिलाड़ी खेलते समय घुटनों तक के जांघिये पहनते है| पहचान के लिए एक टीम को सफ़ेद तथा दूसरी को नीले रंग की टोपी पहननी पड़ती है| गोलकीपर को लाल टोपी पहनाई जाती है| इनके अलावा खिलाड़ी धातु की अन्य कोई वस्तु नहीं पहन सकता|

वाटर पोलो खेल की रेफरी Referee of Water Polo Games

इस खेल को केवल एक रेफरी ही नियंत्रित करता है| उसके पास सब अधिकार सुरक्षित है| यदि कोई खिलाड़ी खेल के नियमो का उल्लंघन करता है, तो रेफरी उल्लंघन की प्रकृति के अनुसार उसे चेतावनी देकर छोड़ भी सकता है और खेल से बाहर भी कर सकता है|

[Read This Also – तैराकी के नियम, प्रकार और महत्व Swimming Pool Rules]

वाटर पोलो खेल के गोल जज Goal Judge of Water Polo Game

गोल के क्षेत्र के दोनों सिरो पर एक-एक गोल जज की मेज होती है| जज के हाथ में दो पताकाएं होती है| एक का रंग लाल तथा दूसरी का सफ़ेद होता है| जब किसी खिलाड़ी की स्थिति ठीक होती है, तब लाल पताका और जब ठीक नहीं होती, तो सफ़ेद पताका से संकेत किया जाता है| गोल थ्रो के लिए सफ़ेद पताका, कार्नर थ्रो के लिए लाल पताका का संकेत दिया जाता है| गोल होने का संकेत लाल व सफ़ेद दोनों पताकाओ से दिया जाता है|

वाटर पोलो खेल की अवधि Water Polo Game Period

यह खेल 7-7 मिनट की चार पारियो में सम्पन्न होता है| दो पारियों के बीच दो मिनट का विश्राम होता है| तीसरी पारी शुरू होने से पहले टीमे अपना क्रीडा क्षेत्र बदल लेती है| टीमों के स्कोर बराबर हो, तो 5 मिनट के अंतराल के बाद अतिरिक्त समय का खेल शुरू होता है| इस प्रक्रिया में 3-3 मिनट की दो पारिया खेली जाती है और क्षेत्र बदलने मे लिए एक मिनट का समय दिया जाता है| यदि मैच का निर्णय फिर भी नहीं होता, तो एक-एक मिनट के बाद तीसरी पारी पुनः शुरू होती है और गोल होने तक खेल चलता रहता है|

वाटर पोलो खेल की प्रक्रिया The process of water polo game

खेल शुरू होने की स्थिति में खिलाड़ी अपने पक्ष की गोल रेखा पर एक दूसरे से एक मीटर की दूरी पर खड़े होते है| दोनों ओर के गोल खंभो से उनकी दूरी एक एक मीटर होती है| खंभो के बीच में केवल दो खिलाड़ी ही रह सकते है| रेफरी सीटी बजाकर क्रीडा क्षेत्र में बींचोबीच गेंद फेंकता है और खेल शुरू करता है| गोल करने के बाद खिलाड़ी क्रीडा क्षेत्र के अपनी ओर के आधे भाग में कही भी खड़ा हो सकता है| जिस टीम पर गोल होता है, रेफरी की सीटी के बाद वही खेल के शुरुआत करती है|

उस टीम का एक खिलाड़ी अपने टीम सदस्य को गेंद देता है| दोनों टीमों के खिलाड़ियो द्वारा एक साथ फाउल करने पर कुछ क्षणों के लिए रुक जाता है| खेल शुरू करने के लिए रेफरी गेंद को फाउल होने की जगह के नजदीक इस प्रकार फेंकता है कि दोनों टीमों के गेंद पाने का बराबर अवसर प्राप्त हो|

गोलकीपर के अलावा अन्य कोई खिलाड़ी दोनों हाथों से गेंद को नहीं छू सकता और न ही बंद मुट्ठी से गेंद पर प्रहार कर सकता| विरोधी द्वारा छीनने कि कोशिश में गेंद को पानी के नीचे ले जाने के अनुमति नहीं होती| गेंद को ड्रिबल करना, गेंद छीनना, गेंद को पानी के ऊपर उठाना, गेंद दूसरे खिलाड़ी के पास फेंकना या निशाना साधकर गोल में फेंकना आदि गतिविधियों की अनुमति होती है| कोई भी खिलाड़ी 30 सेकंड से अधिक समय तक गेंद अपने पास नहीं रख सकता अन्यथा दूसरी टीम को फ्री-थ्रो का अवसर मिल जाता है|

वाटर पोलो खेल के गोल रक्षक Goal Keepers of Water Polo Games

गोल रक्षक जलाशय क्षेत्र के फर्श पर खड़ा होकर कूद सकता है अथवा चल सकता है| वह दोनों हाथों का उपयोग कर सकता है| चार मीटर के अंदर से वह गेंद को पंच कर सकता है, लेकिन खेल क्षेत्र को आधा बांटने वाली रेखा पर नहीं आ सकता और न ही वंहा से सीधी गेंद फेंकने की अनुमति मिल सकती| उसे जल क्षेत्र के किनारे पर बने ट्रफ को पकड़ने की भी अनुमति नहीं होती| क्रॉस बार के नीचे से होती हुई गेंद जब गोल खंभो के बीच वाली गोल रेखा को पार करती है, तो गोल माना जाता है, लेकिन यह तभी मान्य है जब गेंद पंच न की गई हो| गेंद को गोल के ड्रिबल द्वारा डाला जा सकता है| अंत में अधिक गोल करने वाली टीम को विजयी घोषित किया जाता है|

वाटर पोलो खेल की पेनल्टी- थ्रो Water Polo Sports Penalty – Throw

चार मीटर क्षेत्र में किसी भी तरह की रुकावट, जैसे गेंद को थामना, डुबोना अथवा खिलाड़ी के पास न हो, तो ऐसी स्थिति में भी उसे पीछे खीचना या धक्का देना, खिलाड़ी को ठोकर मारना आदि त्रुटि करने पार पेनल्टी-थ्रो दिया जाता है| पेनल्टी-थ्रो सीधे गोल में ही फेंकना होता है| पेनल्टी-थ्रो में गोलकीपर के अलावा कोई भी थ्र्वो ले सकता है| रक्षक गोलकीपर को छोड़कर सभी खिलाड़ियो को चार मीटर क्षेत्र से हटना पड़ता है| गोलकीपर को अपनी गोल रेखा पार ही बने रहना पड़ता है|

वाटर पोलो खेल में फाउल की स्थितियां Fowl conditions in the water polo game

 1. खिलाड़ी द्वारा अन्य खिलाड़ी को ठोकर मारना या किसी भी प्रकार का प्रहार करना|
 2. कोई हिंसात्मक गतिविधि करना|
 3. चार मीटर क्षेत्र मे भीतर नियम विरुद्ध गोल रोकना|
 4. खिलाड़ी को डुबोने की कोशिश करना|
 5. फ्री-थ्रो लिए जाने पार बाधा उत्पन्न करना|