प्राकृतिक सुंदरता के लिए योग Yoga For Natural Beauty And Glowing Skin

प्राकृतिक सुंदरता के लिए योग Yoga For Natural Beauty And Glowing Skin – व्यायाम का कोई विकल्प नहीं | अगर आप अच्छा स्वास्थ्य और प्राकृतिक सुंदरता चाहती हैं तो योग के बिना यह संभव नहीं है | योग का मतलब है मन और शरीर का संयोग | जब आप मन को एकाग्र कर के आसन करती हैं, तब आप की सभी शक्तियों का संचालन उसी तरफ होता है | भागदौड़ की जिंदगी में बहुतों के पास ब्यूटीपार्लर या हेल्थक्लब जाने का समय नहीं होता | ऐसे में सब से बढिया तरीका यही है कि आप घर पर ही समय निकाल कर कुछ व्यायाम करें | इस के लिए बस थोड़ा दृढ़ निश्चय ही आप के लिए काफी होगा |

व्यायाम करने से शारीरिक शक्तियों का विकास होता है और शारीरिक व मानसिक कमजोरी दूर होती है | व्यायाम करने से पहले निन्न बातों को अवश्य ध्यान में रखें-

1. व्यायाम का कोई एक समय निश्चित करें | सुबह सबेरे या दिन में खाना खाने से आधा घंटा पहले या खाने के 2 घंटे बाद आप व्यायाम कर सकती हैं |

2. व्यायाम से पहले पेट जरुर हल्का होना चाहिए |

3. व्यायाम हमेशा नंगे पांव जमीन पर या दरी बिछा कर करें |

4. व्यायाम करते समय कपड़े आरामदेह होने चाहिए |

5. व्यायाम हमेशा आराम और आसानी से करें, अपने ऊपर किसी तरह का दबाव न डालें |

ताड़ आसन Tadasan Kaise Kare

Step 1 – पांव जोड़ कर पंजों पर खड़ी हो जाएं |

Step 2 – घुटने बिलकुल सीधे रखें |

Step 3- बाहों को ऊपर कर के सीधा करें तथा हथेलियां खुली रखें |

Step 4 – इस प्रकार खड़ी हो कर आप बाहों को आगेपीछे और दाई व बाई तरफ भी घुमा सकती हैं |

Step 5 – जब आप पंजों पर खड़ी हों, सांस को रोक कर पेट अंदर की तरफ खींचें |

tadasana step by step
इसे भी पढ़ें -> मोटापा कैसे काम करे Motapa Kaise Kam Kare – Tips In Hindi

ताड़ आसन के लाभ Tadasan 

  • ताड़ आसन को करने से शरीर में चुस्ती और स्फूर्ति आती है और शारीरिक सौंदर्य बढ़ता है |
  • यह आसन गर्भावस्था में भी किया जा सकता है और इस से प्रसव भी आसानी से होता है |
  • ताड़ आसन से साइटिका के दर्द (यह दर्द अक्सर महिलाओं को पिंडलियों से ले कर कूल्हों तक जाता है) में भी लाभ पहुंचता है |

ऊर्ध्व हस्तोत्तान आसन

Step 1 – पांव बराबर रख कर सीधी खड़ी हो जाएं |

Step 2 – उंगलियों को एकदूसरे के बीच रखकर बाजू सिर से ऊपर ले जाएं | हथेलियों को बाहर की तरफ कर के बाजुओं को बिल्कुल सीधा करें |

Step 3 – अब कमर को बारी-बारी से दाई व बाई तरफ झुकाएं | बाजुओं को झुकाते समय सांस रोकें | इस आसन को शुरू में केवल चार बार करें और फिर धीरे-धीरे बढाएं |

konasan for waist pain

ऊर्ध्व हस्तोत्तान आसन के लाभ

  • इस आसन को करने से कब्ज दूर होती है और पेट साफ होता है |
  • कमर तथा कूल्हों से चर्बी घटती है | कमर पतली होती है |
  • इस आसन से पीठ के दर्द में भी लाभ पहुंचता है |

इसे भी पढ़ें -> Height Kaise Badaye Tips In Hindi हाइट कैसे बढ़ाये

ग्रीवा शक्ति विकासक

Step 1 – पांव जोड़ कर सीधी खड़ी हो जाएं |

Step 2 – हाथों को कमर पर रखें और कंधे व सिर को बिल्कुल सीधा रखें | अब गर्दन को धीरे-धीरे दाई ओर से बाई तरफ पूरा घुमाएं | इसे चार बार दोहराएं |

Step 3 – कुछ क्षण रुक कर गर्दन को धीरे-धीरे बाई तरफ से दाई तरफ घुमाएं | केवल 4 बार करें |

ग्रीवा शक्ति विकासक के लाभ

  • इस आसन से गर्दन सुघड़ होती है |
  • दोहरी ठोड़ी कम दिखाई देने लगती है |
  • कंधों का दर्द व तनाव कम होता है |
  • सिरदर्द दूर होता है |
  • इस स्पान्डलाइटिस के दर्द में फायदा होता है |

कोणासन की विधि

konasana ki vidhi hindi meStep 1 – दोनों पांव अच्छी तरह खोल कर खड़ी हो जाएं |

Step 2 – सीधे हाथ से सीधे पांव को छुएं |

Step 3 – उल्टे हाथ को सिर के ऊपर से ले जा कर सीधा रखें |

Step 4 – कुछ क्षण रुक कर उलटे हाथ से उलटा पांव छुएं |

Step 5 – सीधे हाथ को सिर के ऊपर से ले जा कर सीधा रखें | यहीं 10 की गिनती तक रुकें | इस प्रकार यह आसन दोनों तरफ 4 बार करें |

कोणासन के लाभ 

  • कोणासन से शरीर में स्फूर्ति आती है |
  • चेहरे पर रौनक आती है तथा मुंहासे कम होते हैं |
  • पीठ के दर्द में फायदा पहुंचता है |
  • कूल्हों पर चर्बी नहीं चढ़ती है तथा आकार भी ठीक रहता है |
  • साइटिका के दर्द में लाभ होता है |
  • जिन स्त्रियों को सीधा चलने में परेशानी होती है, उन्हें इस आसन से बहुत फायदा होता है |
  • गर्भावस्था के पहले 6 महीने तक इस आसन से लाभ होता है |

गोमुख आसन

Step 1- जमीन पर बैठकर उल्टी टांग को अंदर मोड़ें और एड़ी पर बैठ जाएं |

Step 2- सीधी टांग को उल्टी टांग पर मोड़ कर ऐसे रखें कि पांव जमीन को छुएं |

Step 3- अब सीधा बाजू उठा कर कंधे के पीछे से कुहनी को मोड़ें |

Step 4- उल्टे बाजू को पीठ पीछे से कुहनी मोड़ कर ऊपर उठाएं ताकि दोनों बाजुओं की उंगलियां आपस में मिल जाएं |

Step 5- पीठ को बिल्कुल सीधा व आंखें खुली रखें |

Step 6- सांस सामान्य गति से लें |

Step 7- यह आसन दोनों पांव पर बारीबारी से बैठ कर पूरा माना जाता है |

Step 8- इस आसन को केवल 4 बार करें |

gomukhasan karne ki vidhi hindi me

गोमुख आसन के लाभ 

  • गोमुख आसन से कमर, पांव और घुटनों को ताकत मिलती है |
  • कंधे और बाजू में लोच व ताकत आती है |
  • अस्थमा तथा फेफड़े की हर बीमारी के लिए लाभदायक है |
  • कमर की चर्बी कम होती है |
  • शरीर के जोड़ों में लचीलापन आता है |

अर्धमत्स्येंद्र आसन

Step 1 – जमीन पर बैठ कर पांव बिल्कुल सीधा रखें |

Step 2 – सीधे पांव को उठाकर बाएं घुटने के ऊपर इस प्रकार रखें कि पांव जमीन को पूरा छुए |

Step 3 – उल्टे हाथ को घुमाकर पीठ पीछे कमर पर रखें |

Step 4 – सीधे हाथ को सीधे घुटने पर से ला कर सीधे पांव को छुएं |

Step 5 – सिर घुमा कर सीधी तरफ पीछे को देखें |

Step 6 – यह आसन दोनों पांव पर बारीबारी से करने के बाद ही पूरा माना जाता है | इस आसन को केवल 4 बार करें |

Ardha Matsyendrasana Hindi Me

अर्धमत्स्येंद्र आसन के लाभ 

  • यह आसन पेट की सभी तरह की बीमारियों में लाभदायक है |
  • अगर पेट में कीड़े हों तो भी बहुत फायदेमंद है |
  • मधुमेह की बीमारी में भी इस से बहुत लाभ होता है |
  • इस आसन से कुंडलिनी शक्ति भी जागृत होती है |

उत्तानपद आसन

Step 1 – आराम से जमीन पर लेट जाएं |

Step 2 – हाथों को घुटनों पर रखें |

Step 3 – कमर के ऊपरी और निचले हिस्से को धीरेधीरे ऊपर उठाएं |

Step 4 – शरीर के समस्त भार को पेट व कूल्हों पर केंद्रित करें |

Step 5 – हाथों से अपने घुटनों को छूने की कोशिश करें |

Step 6 – धड़ और पांव उठाते समय सांस को अंदर खींच कर रोकें और कुछ क्षण रुकें |

Step 7 – इस आसन को 4 बार करें |

उत्तानपद आसन के लाभ 

  • इस आसन से बढ़ा हुआ पेट कम होता है |
  • किसी भी तरह की नाभि की परेशानी में फायदा होता है |
  • विभिन्न पेट की बीमारियों में लाभदायक हैं |
  • विस्थापित नाभि इस आसन को करने से ठीक हो जाती है |

शलभ आसन

  • जमीन पर पेट के बल उल्टी लेट जाएं |
  • हाथ और पांव सीधा रखें |
  • अब कमर के निचले हिस्से को जमीन से ऊपर उठाएं |
  • कमर से ऊपर के हिस्से को जमीन से सटाकर रखें |
  • सांस खींच कर रोकें और कुछ क्षण बाद छोड़ें |

शलभ आसन के लाभ 

  1. इस आसन के करने से छाती बड़ी होती है |
  2. कमर में लचक आती है |
  3. इस आसन से कब्ज दूर होती है |
  4. पेट के विकार दूर होते हैं |
  5. हाजमा ठीक रहता है |
  6. यह आसन स्त्रियों के लिए बहुत लाभदायक है |

नौकासन

  • जमीन पर पेट के बल उल्टी लेटे |
  • बाहों को कंधों के आगे सीधे पसारें |
  • अब टांगो, धड़ और बाहों को जितना अधिक हो सके, ऊपर उठाएं ताकि शरीर नौका की भांति लगे |
  • सांस को रोकें और कुछ क्षण नौका की अवस्था में रुकें | यह आसन 6-7 बार किया जा सकता है |

नौकासन के लाभ 

  1. नौकासन से पेट का मोटापा कम होता है |
  2. हाजमा ठीक होता है |
  3. यह आसन कब्ज दूर करता है |
  4. खून के बहाव को ठीक करता है |
  5. शरीर को स्फूर्ति प्रदान करता है |